Home | About me | Site Map
होम     |     इतिहास     |     परिचय     |     जानकारी     |     व्यक्तित्व     |     डाउनलोड्स     |     आप के विचार     |     हमारे बारे में     |     हमारी सेवाएं
Google Add Google Add
line bg
लाडनूं समाचार
line bg
लाडनूं समाचार , January 16 2013
Ladnun Fort
पालिका के ठेकेदार आपसे में उलझे : एक-दूसरे के खिलाफ शिकायतें जारी
नगरपालिका के अन्तर्गत चल रहे विभिन्न विकास कार्यों को लेकर यहां ठेकेदारों में आपस में काफी ठन चुकी है तथा आपस में शिकायतों का दौर भी चल पड़ा है। हाल ही में कुछ नागरिकों ने पालिका में अधूरे पड़े कामों को पूरा करने की मांग को लेकर ज्ञापन दिया था, जिसके बाद एक ठेकेदार को पालिका की ओर से नोटिस जारी करकेे कामों को सात दिनों में पूरा करने की चेतावनी को दी गई। इसके बाद करीब एक करोड़ के टेंडरों में टेंडर कॉपी नहीं देने के मामले में उक्त ठेकेदार रामाशंकर ने अधिशाषी अधिकारी की शिकायत की, जिसमें कुछ चहेते ठेकेदारों भंवरू खां, सुधीर सिंह, नूर मोहम्मद, जाफर हुसैन, महावीर सिहं, शमशाद अली, नब्बू खां को मिलीभगत पूर्वक ठेका देने की साजिश रचने का आरोप लगाया। दूसरी तरफ नगर पालिका को एक शिकायत भारतीय जनता पार्टी ग्रामीण मंडल अध्यक्ष नाथूराम कालेरा व पंचायत समिति में नेता प्रतिपक्ष कालूराम गेनाणा के हस्ताक्षरों से एक और शिकायत इन ठेकेइदारों के विरूद्ध की जाकर मांग की गई कि इनको दो सालों में करोड़ों के काम दिये गये, तथा नगरपालिका के अधिकारियों-कर्मचारियों के साथ मिलकर भरपूर घोटाला किया। इस शिकायत में इन ठेकेदारों के वर्तमान में चल रहे कामों का भुगतान रोके जाने, शेष कार्य के कार्यादेश को निरस्त करने तथा स्वतंत्र एजेंसी से जांच करवाकर धन के दुरूपयोग को रोके जाने की मांग की गई। नगर पालिका की मिसल में यह पत्र शामिल होने के तुरन्त बाद कुछ लोग फिर सक्रिय हुए और कालूराम गैनाणा व नाथूराम कालेरा से एक ही मजमून पर अलग-अलग पत्रों में फिर हस्ताक्षर करवाकर जिला कलेक्टर एवं नगर पालिका को दिया गया कि उनके नाम से एक ठेकेदार ने रंजिशवश यह शिकयत करवाई है, जो निराधार एवं असत्य है। इस प्रकार ठेकदारों की आपसी खींचतान में राजनीतिक व्यक्तियों को भी उलझा दिया गया है। लेकिन बड़ी बात तो यह है कि लाडनूं में विकास के काम कुछ समय से रूके पड़े हैं, पालिका प्रशासन को उन्हें मानक अनुरूप सही करवाना चाहिये। नागरिक इस बात को लेकर नगर पालिका के प्रति खासे खफा हैं।
इनका कहना है
चेयरमेन व एईएन के नहीं होने के कारण ठेका निरस्त किया गया था। शहर में सडक़ों के कम अधूरे पड़े रहने से परेशानी होती है, जिससे ठेकेदार को नोटिस दिया गया था, जिसे लेने से इंकार करने पर डाक से भिजवाया गया। की गई शिकायतें बिल्कुल झूठी है।
- अशोक चौधरी, ईओ, नगर पालिका, लाडनूं।
मेरे नाम से झूठी शिकयत की गई है, जिसका मैंने खंडन किया है। उस शिकायत पर मेरे हस्ताक्षर तक जाली बनाये गये हैं।
-नाथूराम कालेरा, अध्यक्ष भाजपा ग्रामीण मंडल, लाडनूं।
       
line bg
        Previous News         Next News