Home | About me | Site Map
होम     |     इतिहास     |     परिचय     |     जानकारी     |     व्यक्तित्व     |     डाउनलोड्स     |     आप के विचार     |     हमारे बारे में     |     हमारी सेवाएं
Google Add Google Add
line bg
लाडनूं समाचार
line bg
लाडनूं समाचार , January 18 2013
Ladnun Fort
दरकते रिश्तों को कायम करने की कोशिशें : पति की ओर से पत्नी के विरूद्ध दाम्पत्य पुनस्र्थापना का दावा
बिगड़ते रिश्तों की कहानी में दो-दो बार शादी करने ओर दोनों के ही विफल हो जाने का एक रोचक मामला सामने आया हैं। यहां गत दिनों बाईक से जाते पति-पत्नी के साथ हमला करने व मारपीट करने के मामले में अब नया मोड़ आ गया है। इन सबके चलते पत्नी के पति के साथ जाने से इंकार करने से अब इस मामले में पति की ओर से दाम्पत्य सम्बंध पुनस्र्थापना का मामला स्थानीय अदालत में दर्ज किया गया है। यहां पोस्ट आफिस के पीछे रहने वाले जुल्फिकार उर्फ सलीम पुत्र गुलाम सरवर तेली ने अपनी पत्नी अंजुम बानो पुत्री साहबुद्दीन तेली निवासी लाडनूं के विरूद्ध हके-जोजियत से वंचित रखने का आरोप लगाते हुए दाम्पत्य अधिकारों की पुनस्र्थापना की मांग करते हुए प्रतिवादिनी को पाबंद करने का वाद पेश किया। वाद में बताया गया है कि वादी जुल्फीकार व प्रतिवादिनी अंजुम बानो की निकाह गत वर्ष 26 अक्टूबर को हुई थी। प्रतिवादिनी की पूर्व में सुजानगढ निवासी मो. इमरान के साथ निकाह हो चुकी थी, जिनके बीच पूर्व में तलाक भी हो चुका। उसने वादी के साथ शादी के बाद से ही कुछ समय बाद व्यवहार बदतर बनाना शुरू कर दिया तथा अनुचित मांगें करना शुरू कर दिया। बाद में अन्य लोगों के साथ फोन पर बातचीत करने से वादी ने उसके माता-पिता को उसकेे बारे में बताया परन्तु उन्होंने अपनी पुत्री का ही पक्ष लिया। इसी बीच गत 15 दिसम्बर को उन दोनों पति-पत्नी पर कुछ लोगों ने हमला करके वादी के साथ मारपीट की तथा उस पर अपनी पत्नी को तलाक देने के लिये दबाव डाला। इसके बाद उन्होंने अपनी पुत्री को अहमदाबाद के बजाये कोलकाता लेकर जाने व वहीं पर उसकी मौसी के पास रहने के लिये दबाव डाला तथा झूठे मुकदमों में फंसाने की धमकियां तक देने लगे। वादी द्वारा अपने पीहर में पत्नी को लेने के लिये जाने पर उसके साथ अभद्र व्यवहार करके साथ भेजने से मना कर दिया। फिर 11 जनवरी को लेने जाने पर स्वयं पत्नी ने पति के साथ रहने से मना कर दिया। वाद पत्र में दाम्पत्य हकों की प्राप्ति की मांग की गई है।
इनका कहना है
मुझ पर करीब एक माह पहले दीपसिंह व राजू हरिजन द्वारा किये गये हमले के समय ही यह एहसास हो गया था कोई साजिश अवश्य है। मुझ पर ससुराल वालों की ओर से घरजमाई बनने का दबाव डाला गया, जिससे मैंने स्पष्ट इंकार कर दिया था। मुझे अपनी पत्नी के साथ भेजने से इंकार करने के बावजूद मैं अपने भविष्य की खातिर अपनी पत्नी को साथ रखना चाहता हूं। - जुल्फिकार तेली, वादी, लाडनूं।
जुल्फिकार की ओर से हके-जोजियत का मामला अपनी पत्नी पर किया गया है, जिसे अदालत ने दर्ज करके नोटिस जारी करने के आदेश दिये हैं, जिनमें उसे 19 फरवरी को अदालत में हाजिर होकर जवाब पेश करने का समय दिया गया है। - सरफराज, एडवोकेट, लाडनूं।
       
line bg
        Previous News         Next News